होली का त्योहार क्यू मनाया जाता है

0
208
Holi

Namaskar Dosto,

आज मैं आपको आ रहे होली के त्योहार के बारे में बताने जा रहा हूँ। इस त्योहार को क्यु मनाते है, ओर इस त्योहार को ऎसा क्या हुआ था जिसे होली के रूप में मनाया जाने लगा। आओ आज हम इसके बारे में जानकारी लेते है।

होली बसंत ऋतु का त्योहार होता है। इस त्योहार के दिन हिंदू समाज में खुशी का माहोल बना रहता है इस दिन सभी लोग अपने एक दूसरे के घरो में जाकर गले मिलते है। ओर मिठाइयां खिलाते है। यह कहानी एक पाखंडी हिरण्यकश्यप राजा से जुड़ी हुई है। ओर आगे इस त्योहार को विस्तार से समझाते है।

हिरण्यकश्यप प्राचीन भारत का एक राजा था जो कि राक्षस की तरह था। वह अपने छोटे भाई की मौत का बदला लेना चाहता था जिसे भगवान विष्णु ने मारा था। इसलिए ताकत पाने के लिए उसने सालों तक प्रार्थना की। आखिरकार उसे वरदान मिला।

लेकिन इससे हिरण्यकश्यप खुद को भगवान समझने लगा और लोगों से खुद की भगवान की तरह पूजा करने को कहने लगा। इस दुष्ट राजा का एक बेटा था जिसका नाम प्रहलाद था और वह भगवान विष्णु का परम भक्त था। प्रहलाद ने अपने पिता का कहना कभी नहीं माना और वह भगवान विष्णु की पूजा करता रहा।

बेटे द्वारा अपनी पूजा ना करने से नाराज उस राजा ने अपने बेटे को मारने का निर्णय किया। उसने अपनी बहन होलिका से कहा कि वो प्रहलाद को गोद में लेकर आग में बैठ जाए क्योंकि होलिका आग में जल नहीं सकती थी। उनकी योजना प्रहलाद को जलाने की थी, लेकिन उनकी योजना सफल नहीं हो सकी क्योंकि प्रहलाद सारा समय भगवान विष्णु का नाम लेता रहा और बच गया पर होलिका जलकर राख हो गई।

होलिका की ये हार बुराई के नष्ट होने का प्रतीक है। इसके बाद भगवान विष्णु ने हिरण्यकश्यप का वध कर दिया, लेकिन होली से होलिका की मौत की कहानी जुड़ी है। इसके चलते भारत के कुछ राज्यों में होली से एक दिन पहले बुराई के अंत के प्रतीक के तौर पर होली जलाई जाती है।

होली वसंत ऋतु में मनाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण भारतीय और नेपाली लोगों का त्यौहार है। यह पर्वहिंदू पंचांग के अनुसार फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। रंगों का त्यौहार कहा जाने वाला यह पर्व पारंपरिक रूप से दो दिन मनाया जाता है। यह प्रमुखता से भारत तथा नेपाल में मनाया जाता है।

holiradha

होली का त्यौहार राधा-कृष्ण के पवित्र प्रेम से भी जुड़ा है। बसंत में एक-दूसरे पर रंग डालना श्रीकृष्ण लीला का ही अंग माना गया है। मथुरा-वृंदावन की होली राधा-कृष्ण के प्रेम रंग में डूबी होती है। बरसाने और नंदगांव की लठमार होली जगप्रसिद्ध है। होली पर होली जलाई जाती है अहंकार की, अहं की, वैर-द्वेष की, ईर्ष्या की, संशय की और प्राप्त किया जाता है विशुद्ध प्रेम।

यह त्यौहार कई अन्य देशों जिनमें अल्पसंख्यक हिन्दू लोग रहते हैं वहाँ भी धूम-धाम के साथ मनाया जाता है। पहले दिन को होलिका जलायी जाती है, जिसे होलिका दहन भी कहते हैं। दूसरे दिन, जिसे प्रमुखतः धुलेंडी व धुरड्डी, धुरखेल या धूलिवंदन इसके अन्य नाम हैं,धुलेंडी के दिन रंगा रँग कार्यक्रम किये जाते है।

इस दिन लोग नये नये वेस भुसा पहनकर घर घर जाकर एक दूसरे को रंग लगाते है। लोग एक दूसरे पर रंग, अबिर गुलाल इत्यादि फेंकते हैं, ढोल बजा कर होली के गीत गाये जाते हैं और घर-घर जा कर लोगों से गले लगते है।

ऐसा माना जाता है कि होली के दिन लोग पुरानी कटुता को भूल कर गले मिलते हैं और फिर से दोस्त बन जाते हैं। एक दूसरे को रंगने और गाने-बजाने का दौर दोपहर तक चलता है। इसके बाद स्नान कर के विश्राम करने के बाद नए कपड़े पहन कर शाम को लोग एक दूसरे के घर मिलने जाते हैं, गले मिलते हैं और मिठाई खिलाते हैं।

इस पर्व पर मेले का आयोजन करवाया जाता है सायं को सभी लोग मेले में जाते है। ओर वहां मेले का आनन्द उठाते है

SHARE
Previous articleGaram Pani Peene ke fayde kya kya hote hai
Next articleभारत के राज्यों के प्रमुख नृत्यों की Short Tricks
मैं Rinku Singh , इस ब्लॉग पर मैं टेक्नोलॉजी से सम्बंधित जानकारी share करता हूँ। इस ब्लॉग को हमने उन लोगो के लिए बनाया है जो हिंदी भाषा में पढ़ना पसंद करते है। अगर आपको भी हिंदी में पढ़ना अच्छा लगता है तो हमारे साथ जुड़े रहिए हम आपके लिए हिंदी में रोज एक नई जानकारी लाते रहेंगे?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here